Yoga is the science of living right and therefore should be included in our daily life. It works on all facets of the person: physical, mental, emotional, spiritual and spiritual.

योग सही तरह से जीने का विज्ञान है और इस लिए इस दैनिक जीवन में शामिल किया जाना चाहिए। यह व्यक्ति के सभी पहलुओं पर काम करता है: भौतिक, मानसिक, भावनात्मक, आत्मिक और आध्यात्मिक।

योग का अर्थ ‘एकता’ या ‘बांधना’ है। इस शब्द की जड़ है संस्कृत शब्द ‘युज’, जिसका मतलब है ‘जुड़ना’। आध्यात्मिक स्तर पर इस जुड़ने का अर्थ है सार्वभौमिक चेतना के साथ व्यक्तिगत चेतना का एक होना। व्यावहारिक स्तर पर, योग शरीर, मन और भावनाओं को संतुलित करने और तालमेल बनाने का एक साधन है। यह योग या एकता आसन, प्राणायाम, मुद्रा, बँध, षट्कर्म और ध्यान के अभ्यास के माध्यम से प्राप्त होती है। तो योग जीने का एक तरीका भी है और अपने आप में परम उद्देश्य भी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *